दिल्ली मेट्रो स्टेशन के बाहर लंबी लाइनों से परेशान यात्री, किराया काम करने की मांग

मेट्रो स्टेशनों के गेट्स बंद होने से नाराज यात्री रोज डीएमआरसी से इस बारे में सोशल मीडिया व अन्य माध्यमों से शिकायत कर रहे हैं। वहीं कुछ लोग तो बाकायदा चेतावनी भरे लहजे में डीएमआरसी से गेट्स खोलने की डिमांड कर रहे हैं। एक यात्री ने राजेंद्र प्लेस मेट्रो स्टेशन के बाहर रोज शाम को लगने वाली लंबी कतार से निजात दिलाने की मांग करते हुए लिखा है कि इसकी वजह से सोशल डिस्टेंसिंग को मेंटेन करने में भी दिक्कत आ रही है और लोगों काफी समय बर्बाद हो रहा है। इसलिए स्टेशन के बाकी के गेट भी खोले जाएं।

एक यात्री ने राजेंद्र प्लेस मेट्रो स्टेशन के बाहर रोज शाम को लगने वाली लंबी कतार से निजात दिलाने की मांग करते हुए लिखा है कि इसकी वजह से सोशल डिस्टेंसिंग को मेंटेन करने में भी दिक्कत आ रही है और लोगों काफी समय बर्बाद हो रहा है

वहीं दुसरे ने बताया कि चांदनी चौक स्टेशन पर अंदर ट्रेनें खाली जाती रहती हैं और बाहर इतनी लंबी कतार लगी रहती है कि लोगों को एंट्री करने में भी रोज औसतन आधे घंटे का वक्त लगता है। यह संसाधनों को बर्बाद करने जैसा है। यात्रियों की शिकायत है कि वह रोज 35 से 40 मिनट लाइन में लगते हैं, तब जाकर उन्हें मेट्रो स्टेशन के अंदर एंट्री मिलती है। इसे देखते हुए उन्होंने भी स्टेशन के बाकी के गेट्स खोलने की मांग की है।

यात्रियों की शिकायत है कि वह रोज 35 से 40 मिनट लाइन में लगते हैं, तब जाकर उन्हें मेट्रो स्टेशन के अंदर एंट्री मिलती है। इसे देखते हुए उन्होंने भी स्टेशन के बाकी के गेट्स खोलने की मांग की है।

वही यात्री अब मेट्रो पैसेंजर्स को हो रही इस असुविधा के बदले में मेट्रो के किराए में कटौती करने की मांग भी कर रहे है। इनका कहना था कि जब आप यात्रियों को पूरी सुविधा नहीं दे रहे हो, तो फिर पूरा किराया क्यों वसूल रहे हो।

हालांकि इन तमाम शिकायतों के बावजूद डीएमआरसी अभी स्टेशनों के अतिरिक्त गेट्स खोलने के मूड में नहीं है। पिछले दिनों यूडी मिनिस्ट्री में हुई एक मीटिंग में भी इस विषय पर चर्चा हुई थी, लेकिन अधिकारियों ने आशंका जताई कि इससे मेट्रो में रश को कंट्रोल करना मुश्किल हो जाएगा और उससे कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा और बढ़ जाएगा।

अधिकारियों ने आशंका जताई कि इससे मेट्रो में रश को कंट्रोल करना मुश्किल हो जाएगा और उससे कोरोना संक्रमण फैलने का खतरा और बढ़ जाएगा।
कोरोना से पहले पीक घंटो में भीड़

इसलिए जब तक संक्रमण का खतरा बना हुआ है, तब तक एंट्री पर नियंत्रण रखने के लिए यही व्यवस्था कायम रखना जरूरी है।

शेयर करे

Be the first to comment

Leave a Reply